नव रसां री खांण है पौथी: डिंगळ रसावळ

नव रसां री खांण है पौथी: डिंगळ रसावळ

कवि युगदृष्टा हुया करै अर उणरौ रच्यौड़ो साहित उणजुग रै समाज रो दरपण। कवि जिण परिवेस मांय पळै-ढळै, विचरण करै, उणरै जथारथरो वरणाव वो आपरी रचनावां मांय किया करै जिकौ जुगोजुग अमर रैवे। इसौ ईजसुकाज कवि श्री दीपसिंह भाटी "दीप" आपरी मूंडै बौलती दैदीप्यमान डिंगलकाव्य शैली री काळकृति 'डिंगळ रसावळ' रो सिरजण करनै कियो, जिको घणौ सरावणजोग है। श्री भाटी लुपत हौवती डिंगल काव्य शैली मांय भी नुवों जोस भरतांथकां डिंगल छंदां री छटा नै छळकावतां थकां देस भगती री दीप्ति, सूरवीरां रोसुजस, महापुरुषों री महिमा अर सैंस्कृति री सौरम रो सांगोपांग वरणाव करसाहित जगत मांय गैरी छाप छोड़ी है जिकौ आवण वाळी नुईं पीढी रो मारग दरसणकराती लखावै।                                                                                                                                                                                                                                       

श्री भाटी री पौथी 'डिंगळ रसावळ' रो पैलो खंड आराधना खंडहै। इणमें कवि आपरा आराध्य देव अर जादव वंस रा आद पुरुस भगवान श्री कृष्णरी आराधना सूं सरू करनै आपरी आराध्य देवी स्वांगियां जी ( चारण सगती आवड़मां), दैशाणैराय करणी मां, माजीसा भटियाणी जी रै सागै संत महात्मा अरमहाकवि ईसरदास जी अर पूजनीक लोक देवतावां, सूरां पूरां जूझारां अरमहापुरुषों रै प्रत सिरदा समरपण रा भाव भांत-भांत रै छंदां अर गीतां मांयदरसाया है जकौ घणा औपता अर सरावणजोग है। 'डिंगळ रसावळ' पौथी री पैली कविता "श्री कृष्ण रूपक" रै मांय कवि जग कलयाण री भावना दरसावतां थकां भगवानश्रीकृष्ण सूं संसार रै पाप रूपी अंधकार रो नास कर धरम रूपी ऊजास परगट करवारी अरदास करै जिकौ त्रिभंगी छंद री छटा लखावण जोग है-                                                                                                                                                                                        
"गोमद गौपाला, नंदन लाला, मुरली वाला , मतवाला।
केशव करुणाला, पाप प्रजाला,दीन दयाला, दिलवाला।                                                                                  तोड़ो तम ताळा, करो उजाळा, भीड़ भंजाळा, भवतारी।
तू ही त्रिपुरारी, संत सहारी, कुंज बिहारी, किलतारी।।"                                               (श्री कृष्ण रूपक पृष्ठ संख्या 20)

इणीज भांत कवि आवड़ मां रै प्रत सिरदा भाव दरसावता थका मां रै प्रतआपरौ पूरो पतियारौ जतावै कै जिका भगत देवी में आस्था राखै वांरौ बेड़ौ देवीपार करै, ऐ जौवाड़ौ-
"अग भोम उतारण सेवक सारण , काज सुधारण साय करे।
दुख दाळध दारण वेरि विदारण , ज्ञान वधारण दोष गरे।"   (श्री आवड़ मां श्री स्वांगियां छंद पृष्ठ संख्या 29)

   कवि ऐड़ाज भाव श्री करणी माताजी रै प्रत रूपक अलंकार रै पांण दरसाया है जिका पाठकां रौ मन मौहता लखावै-
"करणी कर किरपा,दुख रिपु दरपा,सुख्ख समरपा,शंकरणी।
अन्नधन गुण अरपा , पद परमपा ,आस अमरपा अवतरणी।"                                   (श्री करणी अष्टक पृष्ठ संख्या 32)
           
देवियां रै प्रत सिरदा भाव दरसाणै रै सागै सागै कवि गौमाता अर मातभोम रैखातर रणभोम मांय बादरी सागै जूझार हुया सूरवीरां रौ सुजस ई जौसीली शैली मेंघणौ रूपाळौ मांड्यौ है जिकौ घणौ फाबै-
"भाटी जुध भिड़िया,असुर उकखड़िया, तुर्क तपड़िया, तड़बड़िया। 
खांडा खड़खड़िया,माथा पड़िया ,रेत रगड़िया, रड़गड़िया।"                  (छत्रपति आलाजी जैसलमेर छंद पृष्ठ संख्या 42)


सूरवीरां रै सुजस रै सागै कवि संत महात्मावां रै प्रत ई आपरा सिरदा भाव समरप्या है जिका घणा फूठरा इण भांत है-
"बगसौ विद्या ज बाण, पत राखौ परमेसरा।
उजवळ आखर आंण, अमरत खांण ईसरा।।"                                              (भक्त महाकवि ईसरदास आराधना पृष्ठ संख्या 46)

             'डिंगळ रसावळ' रौ दूजौ खंड है -"सूरवीर सुजस"। इण खंड मांयकवि श्री भाटी देसभगत सूरवीरां री सूरवीरता रो सुजस जोशीली काव्य शैली मांयडिंगल छंदां नै खळकावतां थकां कियौ है जिकौ कवि री राष्ट्र भगत छवि छळकावैअर देशभगत सूरवीरां प्रत कवि रै हेत रा दरसण करावे। सिरोमणी देस भगतसूरवीर महाराणा प्रताप रै हल्दीघाटी जुध रो वरणाव विक्लांग गीत में घणौऔपतो अर अंतस रा भाव दरसातौ लखावै-
"पलक में परलोक पठावै, घाटो कियो घमसाण।
हल्दीघाटी रगत रंगांणी, प्रगटै आज प्रमाण।
मेवाड़ में नीपज्यो मोती, जगाई जस री ज्योती।।"                                                    (महाराणा प्रताप रो गीत पृष्ठसंख्या 58)

               इणीज भांत शहीद पूनमसिंह भाटी, शौर्य चक्र विजेता कानसिंहसोलंकी, शहीद प्रभूसिंह, आद वीरां रै जुधां रो वरणाव कवि सांगोपांग शैलीमें घणौ रूपाळौ भांत भांत रै छंदां मांय कर्यौ है जिका छंद विधा माथै कविरी लूंठी पकड़ नै दरसावै। बानगी रूप में भाटी पूनमसिंह रै जुध रो वरणावझूलणा गीत में दनादन करती गोळियां दुसमियां रा काळजा कंपावै अर पाठकां रैहिंये री हूंस बढावै-
"दन दनादन गोलियां दागी, पापी असुर जमलोक पठायो।
रंग हो पूनम जादम रांगड़, जैसाण धरती भलां जायौ।।"                                (शहीद पूनमसिंह भाटी रो गीत पृष्ठसंख्या 60)

इणीज भांत शहीद प्रभूसिंह राठौड़ रै जुध रो वरणाव सोरठा छंदां मांय वयणसगाई अर अनुप्रास अलंकार री छिब रै सागै वीरां रा हौंसला बढावणियो लखावै-
"धरा धुजाई धींस, रण मंह जूझ रांगड़े।
रिपुदळ माथै रीस, गजब उतारी गोगदे।।"                                                   (शहीद प्रभूसिंह राठौड़ सोरठा पृ सं 63)

            डिंगळ रसावळ रो तीजौ खंड है-महापुरुस बखांण।
इण खंड मांय कवि आपरै आखती पाखती रै परिवेस मांय छायौड़ा पर उपकारी, समाजसेवी, धरमाळू अर मिनख धरम रो पाळण करणियां भलां मिनखां रो महापुरुषों रैरूप मांय सांगोपांग सुजस करैने आपरी उदारता री पैचाण कराणै रै सागै नुईंपीढी रै कवियां रै वास्तै एक बानगी पेश कीधी है कै कवि री दीठ फखत ऊंचांऊंचां ओहदां माथै बैठ्योड़ां मिनखां माथै नी जाय समाज मांय सेवा भाव सागैपरोपकार करणियां आम आदमी माथै होवणी चाईजै। इण खंड री पैली कविता रा नायकसाहितकार नारायणसिंह जी भाटी रो शिक्षा अर साहित रै पांण रूपक अलंकार रीछटा रै साथै दोहा छंद मांय इण भांत सुजस कथ्यौ है जिको घणौ उलेखणजोग है-
"मोती जड़िया मौकळा, साहित समदर सीप।
नाम कमायो नारयण, देवी वरणै दीप।।"                                                    (डॉ नारायण सिंह भाटी सुजस पृ सं 73)

इणीज भांत इण खंड री दूजी कविता मांय समाज रा घण चाऊ, सेवाभावी, अर दीनदुखियां री मोकळी मदत करणिया महापुरुष स्व तनसिंह जी चौहान रा बखांण दोहाछंद मांय उपमा अलंकार पोयनै जथाजोग कियो, जिको देखणै लायक है-
"पर उपकारी पूतलो, दिवलो मरुधर देश।
मीठा फळ मनवारियो, तरवर जैम तणेश।।"                                                                       (तनसिंह चौहान सुजस पृ सं 74)

समदरसिता जिको कवि रो सबसूं बडौ गुण है, रा दरसण कवि श्री भाटी री कवितावांमांय ठौड़ ठौड़ व्है। कवि कौरा राजपूत जाति रै भले मिनखां रा बखाण नी कीधाबल्कै दूजै वरणां रै सेवाभावी अर पर उपकारी मिनखां रा ई जथाजोग बखाण कर्याहै जका कवि में समदरसी होवण रा ऐनाण है। संत पुरुस तुलसाराम जी जांगिड़ रैसेवा कामां रा बखांण इणरी बानगी है-
"धेनां धरमाळा , धरम रुखाळा , दीन दयाळा , दातारू।
गाँवा गौशाळा , पाप प्रजाळा , पुण्य थपाळा , प्रहरारू।
जीवां जंजाळा , मुगती माळा , तम रा ताळा , तटकारी।
तुलसा तपधारी , पर उपकारी , सद आचारी , सतकारी।।"                                         (संत तुलसाराम जी जांगिड़ सुजश पृ सं 78)

   इणीज भांत कवि री दीठ समाज रा आम आदमी जिकां मांय सेवाभाव अर मिनखपणै रागुण है वां तक ई पूगी है।कवि वांरा सांगोपांग बखाण कर आपरो कवि धरम निभायौहै।इण पांत में भाटी किशोरसिंह जी राजमथाई अर केशरसिंह जी राठौड़ रा बखाणगिण्या जा सकै-
   "आभे समान आदरस, अंतस हेत अछोर।
   अधर अमीरस ऊचरै, कवियण मोद किशोर।।"
    "मणधारी सत मानवी, पाळण परघळ प्रीत।
    कमधज केशर कनौड़े, राखण रजवट रीत।।"                                 (स्व किशोरसिंह, केशरसिंह सुजस पृष्ठ संख्या 79,80)

           इण महापुरुषों रै सागै कवि बाड़मेर रै मिनखां रै भाईचारे रौ ई घणौ फूठरौ दरसाव सिरज्यो है-
"सब साथ रहे जिम भ्रात सहोदर , भेद दुभाव दिवार भगै।
गळ बाथ मिळे सँग गीत गवाकर , सांपत जात समान सगै।
मजहाब नही अवरोध मरू मग, मोह अथा मनुहार मणै
धन रंग बढांण धरा रज धाकङ,जोध समाजक संत जणे।।"                                       (बाड़मेर बखाण पृ सं 82)

          डिंगल कवि श्री दीपसिंह भाटी 'दीप' रणधा कृत पौथी 'डिंगळ रसावळ' रो चौथौ खंड है कुदरत कोख। इण खंड मांय कवि , ओरण, बसंत बहार, बरसाळौ, जळमहिमा आद छः कवितावां घणै ऊमाव सूं छंदां री छौळां रै सागै श्रंगार रस रोरसपान करावता थका आपरो मन रमाय नै उपमा,रूपक, मानवीकरण, अनुप्रास आदअलंकारां री छटा बिखेरतां थकां घणौ मन परकरती रो वरणाव मौवणो कर्यो हैजिणरी कवि नै बधाई।ओरण रो असतरी रूप में दरसाव लखावौ-
ओरण रूपक असतरी, मरूभोम महकाय।
ओढ सुहागण ओढणी, विहँस रही वनराय।।                                                              (ओरण इकतीसी पृ सं 83)

इणीज भांत बसंत रुत रै दरसाव नै एक कामण रो रूप दैय नै मानवीकरण अलंकार रोसाखात रूप दरसायौ है। सिणगार रस रो सांगोपांग रसास्वाद करावतौ कवि रौ एककवित्त छंद इण भांत है-
"कटि सिंह लचकाती , हंस ग्रीव हिचकाती , शीलवंती सकुचाती , प्रीतम पियारी है।
आवत बसंत आलि , खिलत सुमन कली , चंद को मिलन चली , चंचल चकोरी है ।।"
(बसंत बहार कवित्त पृ सं 88)
इणीज भांत वरसाळो कविता मांय त्रिभंगी री छटा मन मुग्ध करै-
"घनघोर बजावै ,धरा धुजावै ,गिरी गुंजावै, गमकावै।
नभ नीर नखावै,खैण खवावै, चपला छावै, चमकावै
छांटां छमकावै, धरा धपावै ,काळ कटावै, कटकाळो।
रितुवां रूपाळो ,रंग रंगाळो , विरखा वाळो, वरसाळो।।
                               जीय  वा वा वाल्हो ,वरसाळो।।"                                                         (बरसाळोपृ सं 89)

                   इण खंड मांय कवि ओरण कविता में वनसपती अर जीव जिनावरांरी विविध प्रजातियां रो सांवठो वरणाव कियो है जको कवि रै पुख्ता अनुभवां रीपैचाण करावै।इणरै सागै जळ महिमा कविता रै पांण जळ री महता रो बरणाव ई कविरी देस हित में जन कल्याण भावना रा दरशण करावे-
"जल है तोईज कल है, परसों रो न है पतोह।
जळ संभाळण घीव ज्यूं, मिनखां करो मतोह।।"                                                       (जळ-महिमा पृ सं 96)

         'हेत रो हेलो' डिंगळ रसावळ रो छैड़कलो अर पांचवों खंड है।इण खंडमें कवि श्री भाटी सड़क सुरक्षा, जुवानी, मतदान जागरण अर डिंगल म्हारी जानहै आद दस कवितावां रै पांण देस री दसा अर मुसीबतां नै दरसावण रै साथैराष्ट्र हेत में मायड़ भासा राजस्थानी अर डिंगल काव्य शैली रै प्रत आपरोसांगोपांग हेत दरसायौ है।इण कविता पांण कवि रो मायड़ भासा राजस्थानी अरप्राणां सूं प्यारी डिंगल काव्य शैली रै प्रत अणूतो हेत झलकै। सड़क सुरक्षासप्तक कविता में कवि रोमकंद छंदां री छौळां सूं पथिकां नै अपणी जीयाजूणबचावण रै सागै पसु पंखेरूवां री जान बचावण री सीख दैवे-
"गउ मात अजा विचरे बहु गाडर , ऊंट पँखेरु चले अगणो।
जग जीव जिनार रचे जगदीशर , भीतर सांस समान भणो।
उर अंदर भाव दया उपजाकर , जीव बचाव करो जतनो।
रफतार सँभाल चलो सङकां पर,मानुष जूण अमोल मनो।।"                           (सड़क संभाळ सप्तक पृ सं 104)

इण ओळियां मांय कवि री जीव दया भावना घणी झलकै।
             कवि री निजर देस में पसरते भ्रस्टाचार माथै ई पड़ै जिणरीचिंता करतां थकां कवि युवानी कविता रै मांय आपरा भाव यूं दरसावै-
"नैण खोल निरखले देख दसा देस की।
पल पल पारखले भ्रस्ट स्वेत भेश की।।"                                                                 (युवानी पृष्ठ संख्या 106)

इण खंड मांय कवि नशाखोरी अर कन्या भ्रूणहत्या जैड़ी दुसप्रवृतियां सूं बचाव री ई चौखी सीख दैवे-
"नवै बरस छोड़ो नशा, नशा करै तन नाश।
भूख आवै भाकरियै, पैसो रहे न पास।।"                                                                  (नव बरस नमण पृ सं 108)

इणीज भांत कवि कन्या भ्रूणहत्या रो विरोध करता यूं कैवे-
"कुदरत रो वरदान कुमाणस, पेट मांहनै परखावै।
कन्या भ्रूण देख नै कूकै, पूतां नै ई पनपावै।।"                                                          (ओ कैड़ी है आजादी पृ सं 111)

श्री भाटी री डिंगळ रसावळ पौथी री सैंसूं सिरै कविता है- डिंगल म्हारी जानहै। इण कविता नै इण पौथी रो प्राण कह्यौ जा सकै। इण कविता मांय कवि डिंगलकाव्य शैली अर इणरै रचनाकारां रै प्रत अणूतो हेत परगट करतां थकां घणौ मनमौवणौ रूप दे'र कविता नै भावां सूं सराबोर बणाई है जको घणी सरावणजोग है-
"डिंगल विद्या री देवी वीणाली,मां शारद रो अकूत भंडार है ।
‎डिंगलकवियां रे कंठां सूं खळकती, निरमळ रसधार है ।
‎डिंगलहैदेवांरीबाणी,इणरी महिमा अपरम्पार है ।
‎डिंगल- पींगलदोन्यूबैनां, साहित्य जगत सम्मान है।
‎                                ओ डिंगल म्हारी जान है।।"                                       (ओ डिंगल म्हारी जान है पृ सं 112)

  सारांश रूप में कवि श्री दीपसिंह भाटी 'दीप' री पौथी विषै, भाव,भासा अरशैली री दीठ सूं घणी महताऊ है। आ पौथी नुंवी पीढ़ी रै डिंगल कवियां रैवास्तै मारग दरसक बणसी, ऐड़ी पक्की आशा है। इति‌श्री जय अम्बे।। कवि नैसमरपित दोहा-
  डिँगळ रसावळ दीपवै, मिणज्यूं मरुधर मांय।
  दीप भाटी दीपाई, साहित भल सिरजाय।।१।।
  जादम रचि्चयौ जबरो, साहित ग्रंथ सुचंग।
  डील बढायौ डिँगळ रो, रंग दीपजी रंग।।२।।


समीक्षक

महादानसिंह बारहठ "मधुकवि"
वरिष्ठ साहित्यकार व आगीबाण कवि,
सेवानिवृत्त व्याख्याता एवं अध्यक्ष
महात्मा ईसरदास चारण साहित्य परिषद, जिला बाड़मेर

ब्लॉग माथे पाछा जावो

टिप्पणी करें

कृपया ध्यान दें, टिप्पणियों ने प्रकाशित होवण सूं पैला अनुमोदित कियो जावणो जरूरी है।