Skip to product information
1 of 10

Deep Singh Bhati

डिंगल रसावल साहित्य शृंखला (Set of 8 Books)

डिंगल रसावल साहित्य शृंखला (Set of 8 Books)

Regular price Rs. 2,599.00
Regular price Rs. 2,599.00 Sale price Rs. 2,599.00
Sale Sold out
Shipping calculated at checkout.

Book #1 - मरुधरा रा महापुरुष
राजस्थान के मरूधरा अंचल में पैदा हुए प्रातः स्मरणीय 24 महापुरुषों के अनुकरणीय व्यक्तित्व और विभूतिमान कृतित्व की झांकी को इस पुस्तक में उकेरा गया है। राजस्थानी गद्य शैली में चित्रित इस पुस्तक में मरुधरा के 4 लोक देवता, 10 सिद्ध योगी महात्मा और 10 काबिले तारीफ कर्मयोगी उल्लेखित है। 

Book #2 - पलपलती प्रेम कथावां
राजस्थानी भाषा में लिखित हुई एकनिष्ठ प्रेम और मठोठ वाली पंद्रह ऐतिहासिक बेमिसाल प्रेम कथाएं। शुद्ध, सात्विक और मर्यादित प्रेम कहानियां जिनको उकेरने में डिंगल छंदों और अलंकारों से सजी हुई मायड़ भाषा राजस्थानी का विलक्षण उपयोग किया गया है। 

Book #3 - सूरां पूरां री शौर्य गाथावां (भाग-1)
इस पुस्तक में आर्यावर्त के 21 योद्धा-शूरवीरों की  ऐतिहासिक शौर्यगाथाओं को शामिल किया गया है। सभी कहानियां सरल और सहज राजस्थानी भाषा में सृजित है। हर कहानी के साथ QR कोड संलग्न है, जिसे स्कैन करके सम्बंधित विडियो देख सकते हैं।

Book #4 - सूरां पूरां री शौर्य गाथावां (भाग-2)
वीर रस और श्रंगार रस के छंदों से संतृप्त राजस्थानी भाषा की इस पुस्तक में वर्तमान भारत के युद्ध वीर जनरल विपिनसिंह रावत से लेकर ईस्वी सन 194 में हुए विश्व इतिहास के प्रथम शाका के नायक भाटी राजा गजसेन-सहदेव के उद्भट पराक्रम की शौर्य गाथाएं सम्मिलित की गई है। 

Book #5 - डिंगल रसावल काव्य संग्रह (2 Books) (1 FREE)
इस पुस्तक में शुद्ध साहित्यिक छंदोबद्ध व अलंकार युक्त डिंगल काव्य शैली के नाद सौंदर्य से अलंकृत 42 रचनाएं प्रकाशित है। ईश आराधना, शूरवीरों का शौर्य , महापुरुषों का महिमा मंडन, प्राकृतिक संपदा और जीवनोपयोगी प्रेरक बातें डिंगल काव्य के रस में सराबोर कर परौसी गई है।

Book #6 - डिंगल रो डणको 
इस पुस्तक में राजस्थान के वीर योद्धाओं, लोक देवताओं, संतों, महापुरुषों की कीर्ति का डिंगल कविताओं, छंदों, दोहों, गीतों आदि के माध्यम से महिमामंडन किया गया है। प्राचीन काव्य शैली 'डिंगल' में छंदों और दोहों की रचना शुद्ध साहित्यिक एवं परिपक्व गेय शैली में की गई है।

Book  #7 - बातां रा गैघट्ट 
इस पुस्तक में  महात्मा गरवो जी, राणो खींवरो, ऐधूळो भाटी भेरजी, जीवणजी जाट, डंक-भडळी, नींबजी भाटी री दाढ़ी, खम्यावान भीलणी, झंवर चौधरी पुरखोजी, कुलधरा, भाटी भोजराज, मिनजी रतनू, रूठी राणी ऊमादे समेत कुल 20 ऐतिहासिक राजस्थानी कहानियाँ सम्मिलित की गई है।

Book #8 - मायड़ भासा रा मुहंगा मोती
श्री माजीसा मंदिर संस्थान जसोल धाम द्वारा प्रकाशित, ठाकुर पूरणसिंह जी बूड़ीवाड़ा द्वारा संकलित और डिंगल रसावल निदेशक दीपसिंह भाटी 'दीप' द्वारा संपादित परंपरागत मूल राजस्थानी काव्य कृति मायड़ भासा रा मुंहगा मोती पुस्तक में डिंगल एवं राजस्थानी कविताओं, दोहों, छंदों एवं गेय काव्य का संकलन किया गया है। 

Books Details:
Total Items : 8

Total Pages : 1040
Language : Rajasthani
Author: Deep Singh Bhati
Publication Year: 2020-2023

Sold By: Dingal Rasawal Shodh Sansthan
Barmer, Rajasthan

What's Inside?

Highlights

• डिंगल काव्य के छंदों का जबरदस्त जायका
• साहित्य के नौ रसों का परिपाक
• साहित्य की संप्रेषणीय शैली बातपोश विधा का सजीव चित्रण
.• इतिहास और साहित्य के पृष्ठों से लुप्त कहानियां
• इतिहास के पन्नों से वंचित वीरों का महिमा मंडन
• सरल, सहज ग्राह्म और रोचक भाषा शैली
• सांस्कृतिक मूल्यों का विलक्षण संगम
• ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित
• हर कहानी का वीडियो देखने हेतु क्यू आर कोड.

Book Details

• राजस्थानी गद्य एवं पद्य शैली में चित्रित पुस्तकें
• शुद्ध साहित्यिक सुग्राह्य शैली
• समाज रे हरैक तबकै री प्रतिभा रा बखांण
• मायड़ भासा राजस्थानी और डिंगल काव्य की मिठास
• साहित्य के नौ रसों का विलक्षण परिपाक
• सांस्कृतिक मूल्यों का विलक्षण संगम
• ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित
• लुप्त हो रही समृद्ध साहित्यिक शैली को संरक्षित करने और बढ़ावा देने की पहल
• हर कहानी का वीडियो देखने हेतु क्यू आर कोड

View full details